Click to Download this video!

दोनों बहनों की चूत का सुख

Dono bahno ki chut ka sukh:

antarvasna, group sex kahani दोस्तों, आज जो कहानी मैं लेकर आया हूँ वो आपको मजा जरूर देगी। मेरा नाम रतन है और मैं गोरखपुर का रहने वाला हूं। मेरी उम्र 26 वर्ष है। मैंने अपनी ग्रेजुएशन की पढ़ाई दो वर्ष पहले पूरी कर दी थी और उसके बाद मैंने एक कंपनी में नौकरी भी की लेकिन मुझे वहां पर नौकरी करना अच्छा नहीं लगा इसलिए मैंने नौकरी छोड़ दी और मैं अब घर पर ही रहता हूं। मेरे पिताजी को मुझसे काफी नफरत है। वह मुझे हमेशा ताना देते रहते हैं कि तुम पढ़ लिखकर घर पर ही बैठ जाओ और हम ही तुम्हें हमेशा पालते रहेंगे। उनके तानों से मुझे बहुत चिढ़ हो गई इसलिए मैं उनसे हमेशा बचने की कोशिश करता हूं। मैंने उसके बाद कई कंपनियों में नौकरी के लिए अप्लाई भी किया और मेरा सिलेक्शन भी हो जाता लेकिन मैं एक महीने से अधिक किसी भी जगह नौकरी नहीं कर पाता इसी वजह से शायद मेरे परिवार के सदस्य मुझसे परेशान होने लगे थे और वह लोग मुझसे ज्यादा बात नहीं करते।

मैं अपने दोस्तों से उधार लेकर अपना काम चलाता था। कभी मैं किसी से 500 रुपये ले लेता और कभी किसी से मैं हजार रुपया ले लेता। ऐसे ही मेरा खर्चा चल जाता और वह दोस्त मुझसे पैसे भी वापस नहीं मांगते थे। मैं इतना खाली बैठा रहता था कि जब भी किसी को मेरी जरूरत होती तो मैं उसके साथ चला जाता। एक दिन मैं अपने घर से अपनी बाइक पर निकला तो जैसे ही मैं अपने घर से कुछ दूरी पर निकला था तो मैंने देखा कि सामने से एक लड़की आ रही है। उसने मुंह पर कपड़ा लपेटे हुआ था उसकी आंखें देखकर तो मैं उसकी सुंदरता का अंदाजा लगा बैठा। मैं उसके पीछे जाने लगा। मैं उसका पीछा करते-करते उसके घर तक पहुंच गया। मैंने उसका घर तो देख ही लिया था इसलिए मैं अब हमेशा उसके घर के बाहर उसका इंतजार करने लगा लेकिन मैंने उसका चेहरा नहीं देखा था। एक दिन उसके घर से एक लड़की बाहर आई मुझे लगा कि यह वही है लेकिन जब मैंने उसकी आंखें देखी तो मैंने पहचान लिया कि यह वह नहीं है। काफी दिनों बाद मुझे आखिरकार उसका चेहरा दिख ही गया और मैंने उसके बारे में जानकारी एकट्टा कर ली। उसका नाम अंशिका है और वह जब भी अपने कॉलेज जाती तो मैं हमेशा उसके पीछे लग जाता। मुझे उसका पीछा करते हुए काफी वक्त हो गया। मैंने उसके चक्कर में कई पापड़ बेले लेकिन उसके साथ मेरी बात ही नहीं हो पाई।

मैं उसके मोहल्ले के लड़कों को हमेशा अपनी तरफ से छोटी मोटी पाटिया करवा देता लेकिन उसका भी कोई फायदा नहीं हुआ। ना तो उससे मेरी बात हो पाई और ना ही उसका मुझे नंबर मिल पाया लेकिन उसे एहसास हो चुका था कि उसका पीछा कोई करता है। एक दिन उसने मुझे रोकते हुए कहा कि तुम कुछ ज्यादा ही मेरा पीछा कर रहे हो। तुम अपनी हरकत से बाज आ जाओ नहीं तो मैं अपने घर में बता दूंगी और वह लोग पुलिस में कंप्लेंट कर देंगे। उसके बाद तो तुम जानते ही हो क्या होगा। मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और कहा कि मैं तुमसे प्यार करता हूं। मैं किसी से भी नहीं डरता। जब मैंने उसे यह बात कही तो वह भी शर्मारते हुए वहां से चली गई। अब उसे यह तो पता चल ही चुका था कि मैं उसका पीछा कर रहा हूं और उसके पीछे भी पडा हूं लेकिन वह भी मुझे बिल्कुल भाव नहीं दे रही थी और ना ही अंशिका मेरे लिए इतनी ज्यादा पागल थी। मैं उसके पीछे पागल था। एक दिन मेरे दोस्त ने मुझे कहा कि तुम उसका पीछा छोड़ दो। कोई फायदा नहीं होने वाला वह तुम्हे कभी हां नहीं कहने वाली। उसके पिताजी बहुत ही सख्त ख्यालात के हैं और तुम दोनों की दाल नहीं गलने वाली। मुझे लगा कि मेरा दोस्त ठीक कह रहा है। अब मुझे कोई और तरीका अपनाना पड़ेगा। मैंने उसकी दीदी के साथ दोस्ती कर ली। उसकी दीदी का नाम सुहानी है। उसके साथ मेरी अच्छी दोस्ती हो गई क्योंकि उसकी उम्र लगभग मेरी जितनी हीं थी और मैं उसे हमेशा कुछ न कुछ छोटे-मोटे गिफ्ट देता रहता। वह बड़ी लालची किस्म की थी वह हमेशा ही मुझसे मिलने के लिए बेताब रहती थी। उसे बस कुछ गिफ्ट का इंतजार रहता था। वह जब भी मुझे मिलती तो हमेशा मेरे सामने एक नई मांग रखती लेकिन मुझे भी अपना काम निकलवाना था इसलिए मुझे उसकी बातों को मानना पड़ता और वह भी बड़ी चालाक किस्म की लड़की है। वह अपना काम निकालना अच्छे से जानती है। जब तक उसका काम निकल नहीं जाता तब तक वह मेरे पीछे पड़ी रहती वह मुझे कहती कि क्या मुझे अंशिका से तुम्हारी बात नहीं करवानी। वह इस बात पर मुझे बड़ा ही लूटती थी। उसने काफी समय तक मुझे ऐसे ही लूटा।

मैंने उसे कहा कि अब तो तुम मेरी बात अंशिका से करवा दो। तुम्हें तो अब सब कुछ पता चल चुका है कि मैं अंशिका के पीछे पागल हूं और उसके बिना नहीं रह सकता। वह कहने लगी बस तुम थोड़ा वक्त और रुक जाओ मैं तुम्हारी उससे बात शुरू करवा दूंगी लेकिन वह हमेशा मुझे टालती रहती उसने मेरी बात अंशिका से नहीं करवाई। एक दिन मैं बहुत ज्यादा गुस्सा हो गया और मैंने सुहानी को कहा आज तक तुमने मुझे जो भी कहा मैंने तुम्हारी हर जरूरतों को पूरा किया लेकिन तुम मेरी बात अंशिका से नहीं करवा सकती तो मुझे एक बार कह दो। उसके बाद मैं कभी भी तुम्हें नहीं मिलूंगा और ना हीं अंशिका के पीछे इतना पागलों की तरह फिरता रहूंगा। वह मुझे कहने लगी नहीं मैं आज शाम को तुम्हारी बात उससे करवा दूंगी। शाम को मैं तुम्हें मिलती हूं। यह कहते हुए वह चली गई लेकिन शाम को ना तो सुहानी आई और ना ही उसका फोन लग रहा था। मेरा गुस्सा सातवें आसमान पर चढ़ गया मुझे उस पर बहुत गुस्सा आने लगा। कछ दिनो बाद मुझे सुहानी मिली। मैंने उसे कहा तुम तो मेरा फोन ही नहीं उठा रही।

वह कहने लगी मैंने तुम्हें कहा तो था मैं उसकी बात तुमसे जरूर करवाऊंगी। मैं समझ गया यह बडी लालची है। इसे उसी के जाल में फसाना पड़ेगा। मैंने उसे कहा मैं तुम्हारे लिए एक बहुत ही बेहतरीन गिफ्ट लाया हूं लेकिन मैं उसे अपनी जेब में लेकर नहीं आ सकता था वह काफी बड़ा है तुम्हें मेरे साथ चलना होगा। वह कहने लगी ठीक है मैं तुम्हारे साथ चलती हूं। मैं उसे उस दिन अपने घर पर ले गया। सुहानी जब मेरे घर पर आई तो मेरे घर पर कोई भी नहीं था। जब मैं उसे अपने साथ लेकर गया तो वह मेरे घर पर आ गई और कहने लगी वह गिफ्ट कहां है? मैंने उसे पकड़ते हुए अपनी बाहों में ले लिया और अपने लंड को बाहर निकाल लिया। मैने उसे कहा यह गिफ्ट है। वह कहने लगी तुमने मेरे साथ धोखा किया। मैंने उसे कहा तुमने भी तो मेरे साथ कम धोखा नहीं किया तुमने भी मेरे काफी पैसे बर्बाद करवाए हैं और अंशिका से मेरी बात भी नहीं करवाई। मैंने उसके हाथों में अपना लंड दिया। वह भी अपने हाथों से मेरा लंड को हिलाने लगी। जब उसके अंदर से गर्मी पैदा हो गई तो उसने मेरे लंड को अपने मुंह में लेकर चूसना शुरू कर दिया। उसे भी मजा आने लगा और हम दोनों जोश मे आ गए थ। मैंने सुहानी से कहा तुम अपने कपड़े खोल दो। उसने अपने बदन के कपड़े उतार दिए उसने ब्लैक रंग की पैंटी ब्रा पहनी थी। जब मैंने उसके बदन से उसकी पैंटी ब्रा को भी उतारा तो उसके स्तनों ने जैसे मुझ पर जादू कर दिया। मैंने उसके स्तनों पर अपने लंड को रगड़ना शुरू किया। जब मैंने उसकी योनि के अंदर अपने लंड को डाला तो उसकी योनि बहुत टाइट थी। मुझे उसे चोदने में बड़ा आनंद आ रहा था मैंने काफी देर तक उसे अपने नीचे लेटाकर चोदा। कुछ देर बाद मैंने उसकी चूत में अपने लंड को डाल दिया। उस वक्त मैंने उसे घोड़ी बनाया हुआ था जब मैं उसकी चूत के अंदर अपने लंड को डालता तो उसे बहुत ही मजा आता। वह कहती तुम ऐसे ही मेरी चूत में अपने लंड को डालते रहो। मैंने भी काफी देर तक उसकी चूत के अंदर अपने लंड को ऐसे ही बड़ी तेजी से डाला। जब मेरी इच्छा पूरी हो गई तो मैंने उसे कहा अब तो तुम मेरी बात अंशिका से करवा दोगी। वह कहने लगी अब तो मैं तुम्हारी बात अंशिका से जरूर करवाऊगी। मैंने उसे कहा यदि तुमने उससे मेरी बात नहीं करवाई तो अगली बार मैं तुम्हारी गांड से खून निकाल दूंगा। वह कहने लगी नहीं मै तुम्हारी उससे जरूर बात करवा दूंगी। उसने मेरी अंशिका से बात करवा दी। उसके बाद अंशिका और मेरे बीच में चक्कर चलने लगा। मै उसके साथ रिलेशन में था मने उसे प्रेग्नेंट भी कर दिया और सुहानी मेरे लंड को अपनी चूत में लेने के लिए उतावली बैठी रहती।


Comments are closed.


error:

Online porn video at mobile phone


jabardchachi ke sath chudai storypreeti sexchoot masalahttp hindi bfhindi sexy kahaniya downloadxxx sex hindi storyभाभी ने मेरी चुदाई गुंडों से करवाईsexy story maa betachacha ki chudaividhwa maajija sali sex storymarwadi aunty storybhai behan ki chudai hindi melatest indian sex storiesmaa beti ki chudai ki storymarathi zavadya kathanew hindi sex khaniyamast boorgay sexy kahaninangi bhabhi ko chodakamuk chudai ki kahaniantarvasna hindi free downloadall sex story in hindibhabhi sex with devardesi sexy pornchachi ki chudai hindimaa ki chudai ki kathamausi ki chudai hindi fontमाँ की गांड देसीबीसchodna story in hindichachi ko choda hindi memastaram kahaniboor ki chudai comsravanthi sex phototichar miadam ke chudi xxx khanibhabhi ki full chudainangi bur chudaipayalatha. sex. video hdmarathi sec storiestop chudai kahanimako chodasexy story hindopatni ki chudaibadi bahan ki chutanushka sex storiesvelamma hindi storychodne ki story in hindiXstory hindewww beti ki chudai comlambi chutfree hindisex storieschoti behan ki chudaipoonam bhabi sex storymaa beta ki chudai sex storychut ka sukhharyanvi chootsec stories in hindijija sali sexychudai ki chachi kiland ki malishchut se paniexe Hindi khaniee esxantervaasna comdesi chudai freedesi chudai sitehindi sex kahaniyaanbalatkar hindi sex storysuhagrat in sexchachi ki gand chudaisexy bua ki chudaibur ki chudai download